बिहार के चार लाख नियोजित शिक्षक 17 अप्रेल से अनिश्चित कालिन हड़ताल पर

पटना । समान काम समान वेतन की मांग को लेकर बिहार राज्य प्रारम्भिक शिक्षक संघ के आह्वान पर चार लाख नियोजित शिक्षक एवं पुस्तकालयक अध्यक्ष 17 अप्रेल से आपातकालिन हड़ताल पर रहेंगे । हड़ताल का फैसला प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार “पप्पु” ने आपात बैठक बुला कर लिया ।
बिहार राज्य प्रारम्भिक शिक्षक संघ समान कार्य के बदले समान वेतन के लिए प्रयासरत है, इसी प्रयास की दिशा में संघ ने एक और अहम फैसला लिया है । संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीक कुमार “पप्पु” की अघ्यक्षता में एक आपात बैठक संघ के कार्यालय के तत्वाधान में में हीं हुआ जिसमें प्रदेश अध्यक्ष ने अपने सम्बोधन में कहा कि माननीय उच्च न्यायालय के न्यायधिश के आलोक में समान काम का समान वेतन प्रदेश के चार लाख नियोजित शिक्षकों एवं पुस्कालय अध्यक्षों का अधिकार है, ज्ञातव्य है कि माननीय उच्च न्यायलय पटना में इस हेतु कई वाद दायर है 16 मार्च 2017 को सुनवाई के दौरान सरकार को तीन सप्ताह का समय दिया गया । प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सरकार उच्च न्यायालय में दायर वाद को अविलम्ब निष्पादित करें ताकि सभी नियोजित शिक्षकों एवं पुस्तकालय अध्यक्षों को समान काम के बदले समान वेतन अतिशीध्र मील सके । उन्होंने यह भी कहा कि समान काम के बदले समान वेतन के साथ-साथ विभन्न माँगों की पूर्ति को लेकर सतत आंदोलन करते हुए शिक्षामंत्री से वार्ता जारी रही परन्तु समुुचित समाधान नहीं हुआ । संघ ने सरकार की शिक्षा एवं शिक्षक विरोधी नीति का पुरजोर विरोध करते हुए आर-पार की लड़ाई का शंखनाद किया है जिसके तहत आगामी 17 अप्रेल के सभी चार लाख शिक्षक एवं पुस्तकालय अध्यक्ष संघ के आह्वान पर अनिश्चित कालिन हड़ताल पर रहेंगे एवं प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था को ठप कर देंगे जिसकी सारी जवाबदेही सरकार की होगी। बैठक में संघ के महासचिव राकेश कुमार, कोषाध्यक्ष अलवर करीम, उपाध्यक्ष शंभू यादव, विपीन प्रसाद, नरेश शास्त्री, सचिव निरंजन कुमार, धनंजय सिंह, जनार्दन और प्रदेश कार्यालय सचिव नवनीत कुमार मिश्र एवं प्रदेश संगठन प्रतिनिधि शिशिर कुमार पाण्येय विशेष शामिल थे।

Please follow and like us:

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy this blog? Please spread the word :)